ये हैं वो बॉलीवुड फिल्में जिन्हें मिलनी चाहिए थी ऑस्कर नॉमिनेशन में जगह

आज हम आपको बॉलीवुड की कुछ ऐसी बेहतरीन फिल्मों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें असल में ऑस्कर नॉमिनेशन में जगह मिलनी चाहिए थी पर मिल नहीं पाई। ऑस्कर अवॉर्ड के लिए सबसे पहली नामांकित भारतीय फिल्म 1957 में आई मदर इंडिया थी इस फिल्म के निर्देशक महबूब खान थे।  इसके बाद ना जाने कितनी ही फिल्मों को भारत की तरफ से ऑस्कर अवॉर्ड के लिए गईपर एक भी फिल्म ने अभी तक यह अवार्ड अपने नाम नहीं किया है। अब तक तीन भारतीय फिल्मों को ही ऑस्कर अवार्ड के लिए नामांकित किया गया है जिसमें सबसे पहला नाम ‘मदर इंडिया’ का आता है फिर इसके बाद ‘सलाम मुंबई’ फिल्म का सलाम मुंबई फिल्म की निर्देशिका ‘मीरा नायर’ थी इसके बाद लगान फिल्म को ऑस्कर के लिए नामांकित किया गया इसके डायरेक्टर इस फिल्म के डायरेक्टर आशुतोष गोवारिकर थे। अभी तक एक भी फिल्म ऑस्कर अवार्ड नहीं जीत पाई है आज हम आपके लिए ऐसी कुछ फिल्मों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें ऑस्कर अवार्ड के लिए नामांकित किया जाना चाहिए था पर ये  हो ना पाया।

बर्फी

फिल्म बर्फी ने भारत में ना जाने कितने ही अवार्ड जीते थे इस फिल्म में मुख्य भूमिका प्रियंका चोपड़ा, रणबीर कपूर, और इलियाना डिक्रूज ने निभाई थी। इस फिल्म को 2012 में ऑस्कर के लिए भेजा गया था पर यह फिल्म नामांकित भी नहीं हो पाई।

पीपली लाइव

इस लिस्ट में दूसरा नाम पीपली लाइव फिल्म का आता है इस फिल्म के निर्देशक ‘अनुषा रिजवी’ थी। इस फिल्म में भारतीय राजनीति पर एक कड़ा कटाक्ष किया गया था। इस फिल्म को ऑस्कर के लिए भेजा गया था पर यह बेहतरीन फिल्म कि ऑस्कर के लिए नामांकित नहीं हो पाई।

तारे जमीन पर

इस लिस्ट में तीसरा नाम आता है तारे जमीन पर फिल्म का इस फिल्म में आमिर खान ने बेहतरीन अभिनय किया था इस फिल्म के निर्देशक भी आमिर खान ही थे। इस फिल्म में बच्चों के साथ आने वाली समस्याओं के बारे में बड़ी ही बखूबी ढंग से बताया गया था पर दुर्भाग्यवश यह फिल्म भी ऑस्कर के लिए नाम अंकित नहीं हो पाई।

रंग दे बसंती

रंग दे बसंती एक बेहतरीन फिल्म थी इस फिल्म में भी राजनीति पर कटाक्ष किया गया था। बेहतरीन फिल्म होने के बावजूद भी यह फिल्म ऑस्कर के लिए नामांकित नहीं हो पाई। देश भक्ति से लबरेज यह फिल्म लोगों को काफी पसंद आई थी।

Add Comment